Think like a monk summary। थिंक लाइक ए मोंक

Think like a monk summary  जय शेट्टी एक पूर्व सन्यासी हैं, कहानीकार व पॉडकास्टर भी हैं।

उनकी लिखित “Think like a monk”

किताब जिसे हारपर कॉलिंस इंडिया ने प्रकाशित किया है बेस्टसेलर हो गई है। किताब की शानदार सफलता को देखते हुए मंजुल प्रकाशन इसे हिंदी और मराठी में भी प्रकाशित कर रहा है जल्दी ही इसके गुजराती मलयालम तेलुगू संस्करण भी आ रहे हैं।

इस किताब में जय शेट्टी ने

रोचक, प्रासंगिक और व्यावहारिक तरीके से शाश्वत ज्ञान को आम लोगों के बीच साझा किया है।

जय शेट्टी के 400 से ज्यादा वीडियो इंटरनेट पर हैं और ये दुनिया की “हेल्थ एंड वैलनेस पॉडकास्ट परपज ऑन के मेजबान भी हैं। सोशल मीडिया पर उनको 38.5 मिलियन से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं उनके “मेकिंग विजडम गो वायरल” वीडियो को 8 बिलियन बार देखा है।

 

जय ने वैदिक परंपरा में एक सन्यासी के रूप में अर्जित ज्ञान का जो लाभ लिया वह हमें इस किताब Think like a monk में सिखाते हैं कि हम जीवन में हमारी क्षमता और शक्ति की राह में आने वाली रुकावटों को कैसे दूर कर सकते हैं।

 

प्राचीन ज्ञान आश्रम के समृद्ध अनुभवों को मिलाकर यह किताब थिंक लाइक ए मोंक हमें यह सीखने में मदद करती है कि हम अपनी गलत आदतों और बुरे विचारों से कैसे पार पा सकते हैं। हमारे अंदर जो शक्ति है और जो हमारे उद्देश्य हैं हम उन तक कैसे पहुंच सकते हैं।

 

किताब थिंक लाइक ए मोंक एक सार्थक चिंतन के लिए मन मस्तिष्क के द्वार खोलती है,आंतरिक उर्जा का संचार करती है,सफलता को नए सिरे से परिभाषित करने और अपने महान उद्देश्य से जुड़ने के लिए आपको प्रेरित करती है।

 

और पढें

इकिगाई

एक योगी की आत्‍मकथा

3 thoughts on “Think like a monk summary। थिंक लाइक ए मोंक”

Leave a Comment