Jeevan Ka Gyan Khoj Lo मैन्स सर्च फॉर मीनिंग फ्री पीडीएफ

Jeevan Ka Gyan Khoj Lo । मैन्स सर्च फॉर मीनिंग फ्री पीडीएफ विक्टर ई. फ्रैंकल

आवरण पृष्ठ

इस किताब के मुख्य पृष्ठ पर तारबंदी से गिरे एक बाड़े और वाच टावर के बाहर सुदूर ताकती एक चिड़िया जो तार पर ही बैठी है पाठक को बंधनों से आगे सोचने पर मजबूर कर देती है।
“निराशा की ओर से आशा के प्रति समर्पण”

लेखक परिचय

विक्टर ई. फ्रैंकल का जन्म वियना में हुआ और 1997 में निधन भी वियाना में ही हुआ था जहां वह मनोविज्ञान और न्यूरोलॉजी के प्रोफेसर रहे थे।
फ्रेंकल की 32 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं जिनका 26 भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है।
दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान फ्रेंकल ने नाजी यातना शिविर ओसचविज, डखों और कई अन्य शिविरों में भयानक 3 वर्ष बिताए थे।

यह पुस्तक नाजी यातना शिविरों से जीवित बचकर निकले विक्टर फ्रैंकल की अनुभव की हुई भयानक घटनाओं के साथ-साथ पाठक को लोगोथेरेपी से संबंधित उनके मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण भी देती है जिसने उन्हें जिंदा बचने में मदद की।
और यह भी बताती है कि आप यह कैसे कर सकते हैं और अपने जीवन का अर्थ कैसे ढूंढ सकते हैं।

पुस्तक परिचय

यह पुस्तक इंसान के जन्मसिद्ध अधिकार अर्थात जिंदा रहने के अधिकार के बारे में समय को सुरक्षित मानने वाले अनेक जर्मनों और यूरोपियन यहूदियों के साथ लेखक फ्रेंकल को भी हिटलर के यातना शिविरों में असहनीय कष्ट उठाने पड़े थे उनका वहां से जीवित वापस आना किसी चमत्कार से कम नहीं था उन्होंने इस पुस्तक में अपने जीवन का वर्णन करने के बजाए और अपने दुखों और तकलीफों का हिसाब देने के बजाय उन चीजों के बारे में बताया है जिनके बल पर पर है जिंदा बचने में सफल हुए।

 

लेखक पुस्तक में नीत्शे के शब्दों में कहते हैं “जिस व्यक्ति के पास अपने जीवन के लिए एक क्यों है वह है किसी भी तरह के कैसे को सहन कर सकता है”।

लेखक बहुत ही मार्मिक तरीके से उन बंदियों के बारे में बताते हैं जो अपने आने वाले भविष्य की सारी उम्मीदों को खो चुके थे और उन्हीं बंदियों ने सबसे पहले प्राण त्यागे थे उन सभी ने भोजन या दवा के अभाव में प्राण नहीं त्यागे थे असल में वह उम्मीद ना होने और जीवन में कोई उद्देश्य ना होने के कारण बच्चों का शिकार बने थे।

जबकि लेखक ने युद्ध समाप्त होने के बाद एक बार भी दोबारा अपनी पत्नी से मिलने की उम्मीद नहीं छोड़ी और वह हर रोज यह सपना देखते थे कि युद्ध खत्म हो गया है वह अपनी बीवी के साथ हैं और इन अनुभवों को एक व्याख्यान में लोगों को बता रहे हैं।

मैन्स सर्च फॉर मीनिंग फ्री पीडीएफ पुस्तक के कुछ प्रसिद्ध qoutes

अर्थ की तलाश

किसी भी व्यक्ति के लिए जीवन में सबसे बड़ा कार्य यही है कि वह अपने जीवन के अर्थ की तलाश करें।

आंतरिक बल

मनुष्य का आंतरिक बल उसे उसकी नियति से भी परे ले जा सकता है।

आपकी आजादी

जो बदलाव आपके नियंत्रण से बाहर है वह आपकी एक चीज को छोड़कर बाकी सब कुछ छीन सकता है लेकिन वह आपसे यह आजादी नहीं छीन सकता कि आप उस नकारात्मक हालात के साथ किस तरह पेश आएंगे ।
आपके साथ जीवन में जो हुआ उस पर आप का वश नहीं है लेकिन आपने उस घटना के प्रति क्या अनुभव किया उसके साथ कैसे पेश आए यह हमेशा से ही आपके बस में रहा है।

आप असल में क्या हो

जिस व्यक्ति का स्वाभिमान हमेशा दूसरों से मिले या द्रव्यमान पर टिका होता है उसे भावनात्मक रूप से नष्ट होने में जरा भी देर नहीं लगती।

सफलता असल में होती क्या है

सफलता को अपना लक्ष्य मत बनाओ तुम इसे जितना अधिक अपना लक्ष्य या उद्देश्य बनाओगे तो मुझसे उतनी ही दूर होते जाओगे खुशी की तरह सफलता को भी कहीं से पाया नहीं जा सकता इसे तो परिणाम स्वरूप पाया जाता है जब भी हम अपने से भी विशाल कि सीधे से जुड़ते हैं या अपने से परे किसी दूसरे के प्रति समर्पित होते हैं तो उसके फल स्वरुप खुशियां सफलता प्राप्त होती है खुशियां सफलता अपने आप ही घटते हैं आप चाहकर भी अपने लिए कटने पर मजबूर नहीं कर सकते।

अपनी अंतरात्मा की आवाज सुने

आप अपनी अंतरात्मा की आवाज सुने और अपनी पूरी योग्यता व जानकारी के अनुसार काम करें तब आप दीर्घकालीन तौर पर देखेंगे कि सफलता समय आपके पीछे चली आ रही है क्योंकि आप उसके बारे में भूल गए थे।

लेखक का बाद का जीवन

विक्टर फ्रैंकल यातना शिविरों से बचकर निकले हुए जिंदा बचकर निकले हुए गिने चुने लोगों में से एक हैं कई यातना शिविरों में रहने के 3 साल बाद उनको शिविर मुक्त करवाया गया जिसके बाद वह अपने जन्म स्थान वियना लौट आए।

और उसके बाद फ्रैंकल ने अपना सारा जीवन ही यह सिखाने में बिता दिया कि वह इस भयानक दौर से कैसे बचकर निकले व उस दौरान उन्होंने क्या सीखा उनके जीवन में जीवन का कौन सा अर्थ था मतलब था जिसके लिए वह जिंदा रहे।
कैसे उन्होंने अपने जीवन का अर्थ खोजा उस दर्दनाक दौर में और इसे लोगोथेरेपी के रूप में जाना जाता है और आधुनिक मनोविज्ञान में पढ़ाया जाता है

भोजन कपड़े नींद हो या आराम जैसी चीजों के लिए हम कभी गंभीर नहीं होते क्योंकि ये हमें सहज उपलब्ध होती है
लेकिन एक यातना शिविर के बंदी के लिए यह बहुत बड़ी चीज होती है ये जरूरतें कितनी बेशकीमती होती हैं हम कभी सोच भी नहीं पाते।

इस पुस्तक में से आप भी अपने Jeevan  Ka Gyan Khoj Lo क्योंकि बिना मकसद जीना भी कोई जीना है।

Jeevan  Ka Gyan Khoj Lo

मैन्स सर्च फॉर मीनिंग के प्रसिद्ध qoutes

लेखक को यातना शिविरों ने कैसे वर्तमान में जीना सिखाया भूत की चिंता ना भविष्य की फिक्र सिर्फ वर्तमान

“क्योंकि कभी-कभी जीवित रहने का एकमात्र तरीका मृत्यु के प्रति समर्पण करना भी होता है”

“आपके भी जीवन का कोई अर्थ है और इसे खोजना भी आप पर निर्भर है जीवन का कोई सामान्य अर्थ नहीं हो सकता और आपके जीवन का अर्थ आपके लिए अद्वितीय अद्भुत होता है और यह आपके फैसलों और परिस्थितियों पर निर्भर करता है”

“आप कैसे कार्य करते हैं या आप कितने बड़े निर्णय लेते हैं कितनी जिम्मेदारियां लेते हैं यही निर्धारित करते हैं कि आपका जीवन का अर्थ इतना बड़ा है”

उदाहरण के रूप में यातना शिविरों में लेखक ने रातों में ठोकरें खाकर बर्फीली चट्टानों को नंगे पांव पार कर बड़े बड़े तालाबों में नाजी सिपाहियों के द्वारा जबरदस्ती काम करवाने के बावजूद सिर्फ अपनी पत्नी और बच्चों के बारे में सोच कर दीवारों पर और बादलों में उनके चेहरे की तस्वीर बनाकर उनकी कल्पना में आनंद पाकर अपने जीवन का अर्थ पाया जिसने उन्हें बचने में जीवित बाहर आने में मदद की।

आप भी जीवन के अर्थ की तलाश में मानव मैन सर्च फॉर मीनिंग पुस्तक पढ़ें खुद के जीवन का अर्थ ढूंढे यकीन मानिए इस पुस्तक से आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

मैन्स सर्च फॉर मीनिंग pdf के लिए man search for meaning pdf hindi

पुस्तक प्रशंसा

प्रभावशाली और भावपूर्ण
-ज्यूइश क्रॉनिकल

सर्वाइकल के लिए विक्टर फ्रेंकल का शाश्वत फॉर्मूला मैन सर्च फॉर मीनिंग हमारे समय की मनोज चिकित्सा संबंधी क्लासिक बुक है यह कष्ट व पीड़ा के दौर में समय को परामर्श देने पर ध्यान केंद्रित करने के समान है इसके साथ ही यह हमें मानव समुदाय के प्रति हमारे उत्तरदायित्व की भी याद दिलाती है फ्रेंकल की चुनौतियों से अधिक सांत्वना दायक कुछ नहीं हो सकता।

-पैट्रिशिया जे विलियम्स

एक अद्भुत व्यक्ति का प्रेरणादायक दस्तावेज जो भयंकर अनुभव से भी कुछ अच्छा पाने में सफल रहा हम सभी को यह पुस्तक पढ़ने की सलाह देते हैं इसे अवश्य पढ़ा जाना चाहिए
-लाइब्रेरी जर्नल

यह मेरी बड़ी सबसे उल्लेखनीय पुस्तकों में से एक है इसने मेरा जीवन बदल दिया और मैंने जो भी जी आया पढ़ाया यह उसका एक अंग बनी यह सही मायनों में एक पढ़ने योग्य पुस्तक है।

– सूसन जेफर्स, फील द फीयर एंड डू इट एनीवे के लेखक

 

और पढ़े

मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था
अल्केमिस्ट
एन फ्रैंक की डायरी
बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी
इंडिका pdf

Leave a Comment