About me

Welcome to look your book about me

सादर प्रणाम

सभी सम्मानीय पाठकों और पुस्तक प्रेमियों का lookyourbook.com पर स्वागत है।

हमारे बारे में About me

नमस्कार दोस्तो मेरा नाम राकेश सिहाग है आप सभी का हमारे ब्लॉग lookyourbook.com पर बहुत बहुत स्वागत है इस ब्लॉग पर प्रसिद्ध लेखकों व पुस्तकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाती है जिन्हे एक आम पुस्तक प्रेमी की लाइब्रेरी में जरूर होना चाहिए।

राकेश सिहाग द्वारा स्थापित यह वेबसाइट अलग अलग विषयों,कला,साहित्य व मोटीवेशन से संबंधित पुस्तकों कि जानकारी का एक ऑनलाइन स्त्रोत है हमारी वेबसाइट का मुख्य उद्देश्य अपने पाठकों को प्रसिद्ध पुस्तकों और लेखकों के बारे में सरल भाषा में परिचय करवाना है। लुक युअर बुक को हिंदी लेखकों की किताबों के साथ साथ दुनियाभर के प्रसिद्ध लेखकों कि पुस्तकों के बारे में पुस्तक प्रेमियों को अवगत करवाने के लिए बनाया गया है।

हमारी वेबसाइट पर कहानी,कविता,उपन्यास,आध्यात्मिक,प्रेरणा दायक(motivation),जीवनी,बायोग्राफी,ऐतिहासिक घटनाओं से जुड़ी तमाम ऑनलाइन व ऑफलाइन जानकारी उपलब्ध करवाने का प्रयास ईमानदारी से किया गया है इस माध्यम से पाठकों को सही स्रोत तक पहुंचाना ही हमारा मुख्य लक्ष्य है।

इस ब्लॉग पर हम पाठकों के लिए पुस्तकों से सम्बन्धित सारी जानकारी,रिव्यू व सारांश पूरी लगन के साथ रिसर्च करने के बाद प्रस्तुत करने की कोशिश करते हैं और भविष्य में भी इसी तरह के ज्ञानवर्धक लेख सरल व रोचक तरीके से आपके सम्मुख प्रस्तुत करते रहेंगे।

पुस्तक संसार

एक बार एक इंटरव्यू में बिल गेट्स को पूछा गया कि यदि आपको कोई एक सुपर पावर मिल रही हो तो आप कोंनसी शक्ति प्राप्त करना चाहेंगे तो जब सभी चोक्कने होकर जवाब के लिए गेट्स को ताक रहे थे तब गेट्स ने बिना देर किए जो उत्तर दिया वह सच में चौंकाने वाला था गेट्स ने कहा कि ” मैं जल्दी से जल्दी किताबें पढ़ने की शक्ति लेना पसंद करूंगा” मतलब यदि कोई पुस्तक 2 घंटे में पढ़ी जा सकती है तो उसे 2 मिनट में पढ़ पाने की शक्ति।

तो इस वाकए से हम पुस्तकों कि महत्ता समझ सकते हैं सभी सफल व्यक्ति चाहे वो अमेरिका के राष्ट्रपति हों या टेस्ला के मालिक एलन मस्क साल में कम से कम 12 पुस्तकें पढ़ने की सलाह देते हैं क्योंकि पुस्तकों से अच्छा मित्र और मार्गदर्शक कोई दूसरा हो है नहीं सकता।

स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ मस्तिष्क का होना बहुत जरूरी होता है।

जिस तरह हमारे शरीर को काम करते रहने के लिए नियमित खुराक और समुचित पोषण की आवश्यकता होती है इसके बिना वह स्वस्थ नहीं रह पाएगा उसी तरह हमारे मन या दिमाग को भी पर्याप्त पोषण की जरूरत होती है विचारों को मेच्योर करने के लिए नित नई व ज्ञानवर्धक सामग्री की जरूरत पड़ती है और आपकी रुचि के विषयों से सम्बन्धित लेखकों के विचार आपके विचारों और सोच को परिष्कृत करते हैं इसके साथ साथ पुस्तकें हमारे शब्दकोश को नए शब्दों और वाक्य विन्यास से सम्पन्न करती हैं।

परिचय About me

मेरा जन्म राजस्थान के सीमावर्ती जिले श्रीगंगानगर के एक छोटे से गांव में हुआ और मेरी स्कूली पढ़ाई लिखाई पड़ोस के गांव में हुई है स्कूलिंग के दौरान 8 वीं क्लास से मेरे हिंदी अध्यापक पूजनीय ओमप्रकाश जी शर्मा के सानिध्य में स्कूली किताबों के अलावा साहित्य, गध, पध आदि से प्रथम परिचय हुआ।

गुरुजी की कृपा से लाइब्रेरी से मुझे किस्से कहानियों कि किताबों के आलावा गोदान जैसे उपन्यास भी सहजता से मिल जाते थे उसी दौरान कॉमिक्स भी पढ़नी शुरू हुई हमारा एक सीनियर छात्र एक दो रुपए किराए पर एक दिन के लिए कॉमिक्स किराए पर दिया करता था।स्कूल से निकलने के बाद कॉलेज की लाइब्रेरी मेरा सबसे पसंदीदा स्थान था जहां मेरे पढ़ने के लिए असीमित सामग्री थी मैने उसी दौरान शहर की सरकारी लाइब्रेरी की सदस्यता भी ले ली।

लाइब्रेरी से पहली किताब

मुझे याद है वहां से मैने सबसे पहले महात्मा गांधी की “सत्य के साथ मेरे प्रयोग” पढ़ने के लिए ली थी।इसी तरह धीरे धीरे आगे चलकर मेरा पुस्तक प्रेम बढ़ता ही गया।इतिहास,मोटीवेशन,कहानी,दर्शनशास्र व जीवनियां आदि मेरे पसंदीदा विषय हैं।

पुलिस में रहकर पुस्तकों से दोस्ती

वर्तमान में मैं “राजस्थान पुलिस” में कार्यरत हूं व ड्यूटी के बाद बचा समय अपनी व्यक्तिगत लाइब्रेरी में बिताना पसंद करता हूं। पुलिस की शारीरिक और मानसिक रूप से थका देने वाले नौकरी में रहते हुए किताबें ही हैं जो मुझे कभी थकने या बोर नहीं होने देती व हर परिस्थति में नया जोश व उत्साह प्रदान कर कर्तव्य निर्वहन में विषम से विषम हालातों से जूझने के लिए तैयार करती है।

किताबों का रूटीन

पिछले कुछ वर्षों से मैं हर माह कम से कम तीन पुस्तकें पढ़ने का नियम बरकरार रखे हुए हूं ज्यादातर पुस्तकें मैं अमेजन से खरीदता हूं या मेरे शहर की एकमात्र बुक शॉप से।

पाठकों की कमी कहें या पुस्तकें पढ़ने का छूटता शौक की मेरे जिले में ये भी दुर्भाग्यपूर्ण हालत है कि गैर शैक्षणिक पाठ्य सामग्री व किताबों की सिर्फ एक ही दुकान है वह भी एक बुजुर्ग सज्जन पाठकों कि कमी के चलते किसी तरह चला पा रहे हैं कितने दिन चला पाएंगे कुछ कह नहीं सकते।

Kindle paperwhite

मैं भी उन अंकल से माह में एक बार किताब खरीदने की पूरी कोशिश करता हूं और अपने दोस्तों को भी पढ़ने के लिए प्रेरित करता हूं।
इसके अलावा मैं अपने kindle paper white पर पढ़ता हूं जो बहुत ही सुविधाजनक है खासकर यात्रा के दौरान क्योंकि इसमें एक साथ कई पुस्तकें पढ़ सकते हैं और जगह भी नहीं घेरता।

kindle unlimited पैक लेने पर बहुत सी किताबें मामूली मूल्य पर उपलब्ध हो जाती हैं और बहुत सी तो बिल्कुल मुफ्त में।आप किंडल एप अपने फोन में इंस्टाल कर भी पुस्तकें पढ़ना जारी रख सकते हैं।

इस ब्लॉग  look your book  पर सभी विषयों और मशहूर लेखकों की पुस्तक व उपन्यासों का गंभीरतापूर्वक अध्ययन करने के उपरांत उसकी समीक्षा,Qoutes व सारांश पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है व पुस्तक को कहां से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है इसकी समुचित जानकारी प्रदान की जाती है लेकिन फिर भी पाठकों से अनुरोध है कि वह विषय और लेखक का पूर्ण परिचय प्राप्त करने के बाद स्वविवेक से उचित माध्यम से पुस्तक प्राप्त करें।

धन्यवाद About me

अंत में, यदि आप को हमारे द्वारा बताई गयी किसी भी जानकारी से लाभ होता है तो हमें खुशी और गर्व होगा, हमारे प्रयास से यदि आप कुछ नया सीखते हैं तो ये हमारे लिए खुशी की बात है।

हम चाहते हैं कि जिस प्रकार से आप सभी का प्यार और सहयोग मिल रहा है ऐसे ही आपका आशीर्वाद प्राप्त होता रहे।

about me
lookyourbook

About Us
MR. Rakesh Sihag
Founder Of Lookyourbook.Com

my facebook