अमर प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट । World no.1 love story

अमर प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट

जैसा की सभी जानते हैं लैला-मजनूं, हीर-रांझा,सोहनी-महीवाल दुनियाभर में अतिप्रसिद्ध प्रेम कहानियां हैं इसी तरह शेक्सपियर की लिखी कालजयी प्रेम कहानी “रोमियो-जूलियट” को दुनिया में शायद ही कोई इंसान हो जिसने नाम ना सुना हो।शेक्सपियर ने यह अमर प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट 1591 से 1595 के बीच में लिखी थी जिसे 1597 में किताब के रूप में प्रथम बार प्रकाशित किया गया।
तो आइए पढ़ते हैं रोमियो जूलियट की प्रेमकथा…

दो परिवार और उनकी दुश्मनी

वेरोना नामक राज्य जिसके राजा प्रिंस एस्कुलस थे में मोंटेग्यू और कैपुलेट नाम के दो खानदान रहते थे दोनों परिवार अमीर थे व समझदार थे..
लेकिन एक बात में वे बेहद मूर्ख थे।दोनों परिवारों के बीच एक पुराना झगड़ा था, और इसे अच्छे लोगों की तरह सुलटाने के बजाय, उन्होंने अपने झगड़े को एक तरह का पालतू बना लिया, और इसे खत्म नहीं होने दिया.

कैपुलेट से एक मोंटेगू अगर मिल जाता था तो वे झगड़ते थे, तो यह असभ्य और अप्रिय बातें कहते थे हर समय एक दुसरे को नीचा दिखाने का प्रयास करते थे।उनके सम्बन्धी और नौकर भी उतने ही मूर्ख थे उस तरह के सड़कछाप झगड़े से मोंटेग्यू-एंड-कैपुलेट परिवारों के बीच दूरियां बढ़ रही थी।

लार्ड केपुलेट की पार्टी में प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट की शुरूआत

एक दिन केपुलेट परिवार के मुखिया लॉर्ड कैपुलेट ने एक पार्टी दी एक भव्य रात्रिभोज और एक नृत्य और वह इतना मेहमाननवाज था कि उसने कहा कि कोई भी इसमें आ सकता है सिवाय मोंटेग्यूज के लेकिन रोमियो नाम का एक युवा मोंटेगू था, वह पार्टी में आना चाहता था क्योंकि रोजलिन नाम की महिला से वह प्यार करता था।यह महिला कभी भी उसके प्रति दयालु नहीं थी और उसके पास उससे प्यार करने का कोई कारण नहीं था लेकिन बात ये भी थी कि वह किसी से प्यार करना चाहता था क्योंकि उसे अभी तक सही महिला नहीं मिली थी…

तो कैपुलेट की भव्य पार्टी में वह आया, अपने दोस्तों मर्कुटियो और बेनवोलियो के साथ।
ओल्ड कैपुलेट ने उनका और उनके दो दोस्तों का बहुत गर्मजोशी से स्वागत किया और युवा रोमियो अपनी मखमली और साटन पहने हुए विनम्र लोगों की भीड़ के बीच घूमता रहा,तलवार की पट्टियों और कॉलर वाले पुरुषों और महिलाओं के सीने और बाहों पर शानदार रत्न, और कीमती जवाहरात उनके उज्ज्वल करधनी में पहने हुए थे।

रोमियो भी अपने सर्वश्रेष्ठ रूप में था और हालांकि उसने अपनी आंखों और नाक पर एक काला मुखौटा पहना था, हर कोई उसके मुंह और उसके बालों से देख सकता था, और जिस तरह से वह अपना सिर पकड़ता था, वह कमरे में किसी और की तुलना में कई गुना सुंदर था।वर्तमान में नर्तकियों के बीच उसने एक महिला को इतना सुंदर और इतना प्यारा देखा कि उस क्षण से उसने फिर कभी उस रोजलिन के बारे में नहीं सोचा, जिसे उसने सोचा था कि वह प्यार करता है।

प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट की पहली नजर और पहली बाधा

और उसने इस अन्य गोरी महिला की ओर देखा, जब वह अपने सफेद साटन और मोतियों में नृत्य कर रही थी और सारी दुनिया उसे उसकी तुलना में व्यर्थ और बेकार लग रही थी।और वह यह अपने दोस्तों से कह रहा था या ऐसा ही कुछ, तभी टायबाल्ट जो लेडी कैपुलेट का भतीजा है उसकी आवाज सुनकर उसे रोमियो के रूप में पहचान लेता है ।टायबाल्ट गुस्सा होकर अपने चाचा के पास गया और उसे बताया कि कैसे एक मोंटेगु दावत में बिन बुलाए आया है।

परन्तु बूढ़ा कैपुलेट इतना अच्छा सज्जन था कि अपनी छत के नीचे किसी भी मनुष्य से झगड़ा या गुस्सा नहीं कर सकता थाऔर उसने टायबाल्ट को चुप रहने को कहा।लेकिन टायबोल्ट रोमियो के साथ झगड़ा करने का मौका के लिए इंतजार कर रहा था।
तभी रोमियो को पता चला कि जिस महिला पर उसने अपने दिल की आशाएँ लगा रखी थीं, वह जूलियट थी, जो लॉर्ड कैपुलेट की बेटी है जो उसका सच्चा प्यार है।कहां लार्ड केपुलेट की बेटी और कहां साधारण लड़का रोमियो यह सोचकर वह निराश होकर जाने लगा।

इजहार

तब जूलियट ने अपनी नर्स से पूछा: “वह आदमी कौन है जो नाच नहीं रहा?
उसका नाम रोमियो हैऔर एक मोंटागु है आपके सबसे बड़े दुश्मन का इकलौता बेटा है,नर्स ने उत्तर दिया।जूलियट अपने कमरे में गई, और खिड़की से बाहर देखा, सुंदर हरे-ग्रे गार्डन पर चाँद चमक रहा था और रोमियो उस बगीचे में पेड़ों के बीच छिपा हुआ था।क्योंकि वह जाने से पहले उसे छुपकर देखना चाहता था।

इसलिए उसने उससे अनजान बनते हुए अपने दिल के विचारों को जोर से बोला और अपनी सहेलियों को बताया कि वह रोमियो से कितना प्यार करती है।रोमियो ने ये सुना तो उसकी खुशी का कोई पार न रहा।नीचे छिपे हुए ही उसने ऊपर देखा तो चांदनी में उसका गोरा चेहरा दिखा, जो खिड़की के चारों ओर उगने वाले खिलते लताओं से घिरा हुआ था, और जब उसने देखा और सुना, तो उसे लगा जैसे वह सपना देख रहा है और उस खूबसूरत और मंत्रमुग्ध बगीचे में जादू हो रहा है।

जूलियट की बात सुनकर रोमियो बाहर आ गया जिसे देखकर एक बार तो जूलियट घबरा गई फिर कहा “जूलियट मैं भी तुम्हे बहुत प्यार करता हूं”।”आपको रोमियो क्यों कहा जाता है?” जूलियट ने कहा।
“चूंकि मैं तुमसे प्यार करता हूं,इससे क्या फर्क पड़ता है कि मुझे क्या कहा जाता है?”रोमियो ने भी जवाब दिया

“मुझे कुछ भी बुलाओ, पर मुझसे प्यार करो तो मैं नया बपतिस्मा लूंगा,तुम्हारे प्यार के लिए मैं कुछ भी करः सकता हुं, पूरी दुनिया से लड़ सकता हुं,अगर मेरे धर्म बाधा है तो मैं तुम्हारा धर्म ले लूंगा” वह रोकर कहते ही जा रहा था।रोमियो नीचे बगीचे में खड़ा था और जूलियट खिड़की से झुकी हुई थी वे एक काफी देर तक बातें करते रहे,और पार्टी में हर कोई उन्हें खोजने की कोशिश कर रहा था।

लेकिन चूंकि वे एक-दूसरे से प्यार करते थे और अब एक साथ हैं तो इस सुंदर अवसर पर वे जी भरकर प्यारी बातें करते रहे फिर जूलियट ने कहा कि कल मिलते हैं और अंत में प्रेम के साथ उन्होंने कहा “शुभ रात्रि”।जूलियट अपने कमरे में चली गई, और एक अंधेरे पर्दे से उसकी चमकती खिड़की को छिपा दिया। रोमियो खुशी से नाचता बगीचे से चला गया।

प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट

शादी और तैयारियां

अगली सुबह बहुत जल्दी रोमियो एक पुजारी फ्रायर लॉरेंस के पास गया, और उसे सारी कहानी बताते हुए, उससे बिना देर किए जूलियट से शादी करने के लिए विनती की व मदद माँगी।आख़िरकार पुजारी लॉरेंस ने सोचा की इन दोनों की शादी से इनके परिवारों की दुश्मनी खत्म हो सकती है तो उसने रोमियो को शादी करने की सहमति दे दी।

जूलियट बहुत बेचैन हो रही थी तो उसने अपनी बूढ़ी नर्स को रोमियो के पास जानने के लिए भेजा कि उसका शादी के बारे में क्या इरादा है बुढ़िया ने आकर बताया कि सब ठीक है रोमियो शादी की तैयारियों में लग गया है।और अगली सुबह जूलियट और रोमियो की शादी के लिए सभी चीजें तैयार होते हैं युवा प्रेमी शादी के लिए अपने माता-पिता से सहमति मांगने से डरते थे कैपुलेट्स और मोंटेग्यू के बीच मूर्खताभरी दुश्मनी के कारण।प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट

लेकिन फ्रायर लॉरेंस गुप्त रूप से युवा प्रेमियों की मदद करने के लिए तैयार था, क्योंकि उसने सोचा था कि जब वे एक बार शादी कर लेंगे तो उनके माता-पिता को जल्द ही बताया जा सकता है, और यह कि मैच पुराने झगड़े का सुखद अंत कर सकता है।
सब कुछ बिल्कुल सही चल रहा था….लेकिन उसी दिन एक भयानक बात हुई। टायबाल्ट, वह युवक जो रोमियो के कैपुलेट की दावत में जाने से इतना भयंकर गुस्से में था।

 

प्रेमकहानी में पहली मौत   

रोमियो जब अपने दोस्तों मर्कुटियो और बेनवोलियो के साथ गली में घूम रहा था उसी समय टायबोल्ट ने आकर उसे गालियां देना शुरू कर दिया उसके परिवार के बारे में गलत शलत बकवास करने लगा और उसे लड़ने के लिए चुनोती दी।रोमियो को जूलियट के चचेरे भाई के साथ लड़ने की कोई इच्छा नहीं थी, लेकिन मर्कुटियो ने अपनी तलवार खींची वह और टायबाल्ट लड़ पड़े। टायबोल्ट के हाथों मर्कुटियो मारा गया।
जब रोमियो ने देखा कि उसका दोस्त मर चुका है, तो वह गुस्से से पागल हो उठा वह सब कुछ भूल गया वह और टायबाल्ट तलवारें उठा कर आमने सामने आ गए.

 

आगे क्या हुआ पढ़ते हैं.

प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट  के अगले भाग में

क्या रोमियो ने अपनी शादी के दिन ही अपनी प्रिय जूलियट के चचेरे भाई को मार डाला

और फिर उसे कोनसी क्रूर सजा दी गई

दोनों की शादी का क्या हुआ

2 thoughts on “अमर प्रेम कहानी रोमियो-जूलियट । World no.1 love story”

Leave a Comment